तडपत है मन दर्श की खातिर

तडपत है मन दर्श की खातिर
श्याम मोहे तरसाओ ना
तडपत है मन दर्श की खातिर
ये सांसे कही रुक न जाए,
आओ भगवन आओ ना
तडपत है मन दर्श की खातिर

क्या मैं यत्न करू मोरे भगवन
दर्श तेरा कर पाऊ मैं
दर पर तेरे कब से खड़ा हु
आके दर्श दिखाओ न
तडपत है मन दर्श की खातिर

मोर मुकट सिर सवाली सूरत,
सोहे बंसुरिया होठो पर,
एसी छवि आँखों में वसी है,
मोहे श्याम रुलाओ न
तडपत है मन दर्श की खातिर

तू दाता को भाग्ये विध्याता
तू संसार का रखवाला,
अपने भगतो की तू सुनता आओ देर लगाओ ना
तडपत है मन दर्श की खातिर
श्रेणी
download bhajan lyrics (369 downloads)