असी झल्ले हां माये साहणु

असी झल्ले हां माये साहणु झालेया रेहन दो
कुज साडी सुन लो माँ कुझ सहनु केहन देयो
असी झल्ले हां माये साहणु झालेया रेहन दो

असी भगत ध्यानु वांगु माँ तेरे रंग विच रंगा चाहोना आ
जद भी तेरे दर औने आ असी खाली हथ भी जाने आ
करमा देया मारेया नु चरना विच रेहन देयो
असी झल्ले हां माये साहणु झालेया रेहन दो

असी चंगे हां या माडे हां नही जग दी कोई परवाह साहणु,
बस तेरी किरपा हो जावे नही होर कोई भी चा साहणु
तेरे नाम च तन मन रंगेया है रंगेया ही रेहन देयो
असी झल्ले हां माये साहणु झालेया रेहन दो

असी कदे चाकरी दुनिया दी ना किती आ ना करनी ऐ,
तेरे चरना दे सेवक हां असी तेरी हाजरी भरनी ऐ,
तेरे नाम दी दोलत पल्ले है पल्ले ही रेहन देयो
असी झल्ले हां माये साहणु झालेया रेहन दो

जिस हाल विच तू रखे साहणु असी उसे हाल विच रह लवा गे
जे दुःख ते दर्द भी आवन गे असी ओह भी हस के सेह लवा गे
एह हंजू वग दे ने ये वग दे रेहन देयो
असी झल्ले हां माये साहणु झालेया रेहन दो
श्रेणी
download bhajan lyrics (140 downloads)