सतगुरु नानक जी कण कण दे विच वसदा

अज भी चले लंगर बाबे नानक जी दा लाया
नाम जपो ते किरत करो सी सब नु वन्द छकाया
भव सागर ओ तर जांदा ऐ राह जो चुनदा सच दा
सतगुरु नानक जी कण कण दे विच वसदा

काह्लू जी दा राज दुलारा माँ त्रिपता दा जाया
पांदे नु भी पड़ने पाता ऐसा वचन सुनाया
सजन जे ठग राहे पाए कुल ज़माना दसदा
सतगुरु नानक जी कण कण दे विच वसदा

टांडे दे नाल गुण कारी है जो माकी दी श्ल्ली
मिटटी दे विच जान है पाई करके नजर सवली
नाम ओहदे तो बिना हठुर विच जीता नहियो किसे कम दा
सतगुरु नानक जी कण कण दे विच वसदा

चार उदाइसिया दे हर कोने विच है वसदी रंग्तन
मन नीवा मत उची वाली सोच रखे गुरु संगत
नानक नाम जहाज दी माला गिल हमेशा जपदा
सतगुरु नानक जी कण कण दे विच वसदा
download bhajan lyrics (55 downloads)