म्हारा टाबर म्हाने

म्हारा टाबर म्हाने,हिवडे सु ज्यादा लाड लडावे सा
ग्यारस की ग्यारस,मिलबा ने मैं आवे सा,

रोज करे श्रंगार चाव से,नित उठ आरती गावे
मेरो भी मन  महकन लागे जद ये  इतर चडावे
जिमण बैठु तो, हाथा से पंखो रोज ढुलावे सा
ग्यारस की ग्यारस मिलबा ने आवे सा,

टाबरिया म्हारो. राखे भरोसो,पल भर ना बिसरावे
कितनो भी कोइ लोभ दिखावे,छोड़ मने ना जावे
नैणा रा मोती, म्हारे चरणा में आय चढावे सा
ग्यारस की ग्यारस मिलबा ने आवे सा,

जद फागण को मेलो आवे,चाव घणो चढ जावे
कोइ आवे पेट पलणिया, कोइ पैदल आवे
प्रेम्या से मिलके,म्हारो भी हिवडो खिल खिल जावे सा
ग्यारस की ग्यारस मिलबा ने आवे सा,

बिन आके मेरो नाम अधुरो ज्यु दीपक बिन बाती
भगत बिन भगवान ना संजु,सांची बात बतादी
मेरी सकलाइ घर घर मे जाय बतावें सा
ग्यारस की ग्यारस मिलबा ने आवे सा,
download bhajan lyrics (45 downloads)