प्रभु अपने चरणों से

धुन- बचपन की मोहब्बत को

प्रभु अपने चरणों से, मुझको न जुदा करना,
जब याद सताए तेरी, दर्शन की दया करना ll

न तपस्वी न ध्यानी, न योगी न ज्ञानी ll
तूँ सर्वस्य दाता मेरा, मैं नीच हूँ अज्ञानी l
भगवन मेरे दोषों पर, मत ध्यान दिया करना,
जब याद सताए तेरी, दर्शन की दया करना ll

जब फँस के माया में, प्रभु तुझको मैं भूल जाऊँ ll
सच्चा भक्ति का रंग, छोड़ विषयों में लग जाऊँ l
तो तुम प्रभु आ करके, मोहे थाम लिया करना,
जब याद सताए तेरी, दर्शन की दया करना ll

मँझधार पड़ी नईया, कोई खेवनहार नहीं ll
इक्क तेरे सिवा प्रीतम, मेरा जग्ग में नहीं कोई l
तूँ सतगुरु दाता मेरा, मोहे थाम लिया करना,  
जब याद सताए तेरी, दर्शन की दया करना ll

प्रभु द्वार तेरा तज्ज के, यह दास कहाँ जाए ll
फ़रियादें यहअपनी रो, रो रो तुझे सुनाए l
आवाज़ मेरी सुनकर, पहचान लिया करना,
जब याद सताए तेरी, दर्शन की दया करना ll

अपलोडर- अनिलरामूर्तिभोपाल
download bhajan lyrics (49 downloads)