दे वे सजना सान्नु प्रीत आपणी

दे वे सजना सान्नु प्रीत आपणी
मोह छोड़ दे माया राणी दा वे
इस माया भरम भुलाणी दा

जद तक कायम वे जमीं आसमान वे
सन्तां दी धूल विच करां स्नान वे
बुल्लां साड़ियाँ ते होव तेरा ही गीत सदा
चंद चमके नूरी वाणी दा  
मोह छोड़ दे माया राणी दा वे
दे वे सजना सान्नु प्रीत आपणी

घर घर बन्देयाँ दी वखरी जमात ए
हर इक आदमी दी वखरी ही जात ए
रल मिल साँझा रब जान लेण सारे लोग
बंद करके खेद मधाणी दा
मोह छोड़ दे माया राणी दा वे
दे वे सजना सान्नु प्रीत आपणी

टूट जाण पाण्डेय वे पल दा वीसा नही
रूह दी पछाण करे अग्गे जाणी वाह नही
गल्लां बातां विच समा कीमती गवाई ना
पके वेड्ता पांणी दा
मोह छोड़ दे माया राणी दा वे
दे वे सजना सान्नु प्रीत आपणी

बन्दे नु रूसावी ना रब रुसजावे गा
रब नु रुसाएंगा ते दुःख भरमाएगा
लगणा ए जग सारा रब दे सहारे बाज
नक्शा उलझी ताणी दा
मोह छोड़ दे माया राणी दा वे
दे वे सजना सान्नु प्रीत आपणी

हथ नू पछाण लेंदा हथ कलयुग दा
गुरु कोल बागड़ोर रख कलयुग दा
एदे रथ बैठ मन्ना पार होजा सागरां तो
कट बंधन जिन्द निमाणी दा
मोह छोड़ दे माया राणी दा वे
दे वे सजना सान्नु प्रीत आपणी
download bhajan lyrics (39 downloads)