दिवा चन दा जगे हवा पूर दी वगे

दिवा चन दा जगे, हवा पूर दी वगे।
चल चल संता वे दरबार चलिये।।
मीठी मीठी खुशबू निम्मी तारेया दी लौ
जेडी दुनिया नु तारे ओदे द्वार चलिये।।
दिवा चन दा जगे.....

ऋधी सिद्दियाँ दी दाती जिनू जग जानदा
छोटा वड्डा ऐदे द्वारे आ के झोली तान्दा
आसां पूरियां करे, दुख दिल्लां दे हरे
चल लैं दे लइ ओस कोलो प्यार चलिये
दिवा चन दा जगे.......

जिदे तेज़ नाल नूरी संसार हो रेहा है
लाट्टाँ विचो लाट्टाँ वाली दा दिदार होरे है
दूर पर्वतां ते डेरा, जिदा गुफ्फा च बसेरा
दिल तड़फदा ए ओथे बार बार चलिये
दिवा चन दा जगे....

ओदे द्वारे उतों कोई वी ना खाली आव्दा
महो मांगिय मुरादां सारा जग पाव्दा
दाती पर उप्कारि जिदी शेर दी सवारी
चल करन दे लै ओस्दा दीदार चलिये
दिवा चन दा जगे.....
download bhajan lyrics (31 downloads)