मैं भी तेरे बाग दा फुल मेरे मालका

मैं भी तेरे बाग दा फुल मेरे मालका,
की होया जे हो गई मैं तो भुल मेरे मालका......-2
मैं भी तेरे बाग दा फुल मेरे मालका......

चंगे मंदे फुल सारे बागां विच हुंदे ने,
माली इनां फुलां दे हार पिरोंदे ने.....-2
पै जांदा ऐ इनां दा भी मुल मेरे मालका,
मैं भी तेरे बाग दा फुल मेरे मालका........

शवरी ने पलकां दे फर्श बिछाए सी,
सोणे सुंदर राम जी ने चरण शुआयें सी....-2
खट्टे मिठे बेरां उत्ते डुल गयो मालका,
मैं भी तेरे बाग दा फुल मेरे मालका.........

कईयां तेरे दर उत्ते धूणियां रमाईयां ने,
असां तेरे दर उत्ते झोलियां फैलाईयां ने....-2
पल्ला ना छुडाई जाणां मेरे मालका,
मैं भी तेरे बाग दा फुल मेरे मालका...........

दासन दासी अरज गुजारे,
खैर झोली पाईं दाता अपणे ही प्यार दी....-2
चरणां दी धूली झोली पाईं मेरे मालका,
मैं भी तेरे बाग दा फुल मेरे मालका.......
download bhajan lyrics (160 downloads)