रटो पार्वती के भरतार

रटो पार्वती के भरतार,करेंगे भव से बेड़ा पार ,
शिव नंदे के असवार, करेंगे भव से बेड़ा पार,

कैलाश के राजा आप महाराजा, शोभा बरनी न जाई ,
गौरा संग  में  बाए  अंग  में,   शेषनाग लिपटाए,
जाता जूट में गंग की धार,  करेंगे भव से बेड़ा पार ,

भष्मासुर सुर को दे दिया हरी ने,  भष्म कड़ा अतिभारी,
वो  दीवाना  सोचे  दाना, हर  ल्यु  शिव  कि  नारी ,
लिया मन में कपट विचार ,करेंगे भव से बेड़ा पार,

शम्भू  भाग्या  डर  जब  लाग्या,   तीन लोक घबराये ,
देवो ने  जब  माया  पलटी, विष्णु  प्रकट  हो आये ,
लिया  रूप  मोहिनी  धार, करेंगे  भव  से बेड़ा पार,

सीताराम   राधेश्याम , रटता माला  तेरी,
आया शरण में पड्या चरण में लाज राखियो म्हारी,
शिव  निराधार  आधार, करेंगे  भव  से  बेड़ा पार,

जय शंकर की....
जय श्री नाथजी की.....
श्रेणी
download bhajan lyrics (465 downloads)